भूराजनैतिक तनाव में उछाल के बीच, वैश्विक प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में गिरावट Attribution+  — संयुक्त राष्ट्र व्यापार एवं विकास (UNCTAD) की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में पसरी सुस्ती और बढ़ते भूराजनैतिक तनावों के कारण विदेशी निवेश में मन्दी बरक़रार है. पर्याप्त धनराशि उपलब्ध ना होने की वजह से टिकाऊ विकास लक्ष्यों को हासिल करने में चुनौतियाँ हैं, जिसके मद्देनज़र सतत वित्त पोषण सुनिश्चित किए जाने पर बल दिया गया है. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 5 hr
साइबर जगत में उभरते जोखिमों के मद्देनज़र, नए डिजिटल रक्षा उपायों का आहवान Attribution+  — संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने आगाह किया है कि साइबर जगत एक ऐसी दोधारी तलवार है, जिसमें अपार लाभ की सम्भावनाओं के साथ-साथ ग़लत इस्तेमाल के कारण उपजने वाले जोखिम भी निहित हैं. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 6 hr
ग़ाज़ा: भीषण लड़ाई, सहायता क़िल्लत, झुलसाने वाली गर्मी में फँसे आम फ़लस्तीनी Attribution+  — ग़ाज़ा में भीषण लड़ाई, झुलसा देने वाली गर्मी के बीच अति-आवश्यक वस्तुओं की क़िल्लत है और आम फ़लस्तीनियों को बीमारियों के प्रकोप व क़ानून व्यवस्था ढह जाने के प्रभावों से जूझना पड़ रहा है. संयुक्त राष्ट्र मानवीय सहायताकर्मियों ने गुरूवार को ग़ाज़ा पट्टी में चिन्ताजनक हालात पर चेतावनी जारी की है. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 10 hr
पीएम मोदी के स्वागत में उमड़ी भीड़ का यह वीडियो जी-7 शिखर सम्मेलन का नहीं है CC BY-ND  — बूम ने फैक्ट चेक में पाया कि वीडियो 2023 का है, जब प्रधानमंत्री मोदी ऑस्ट्रेलियाई सरकार के गेस्ट के रूप में ऑस्ट्रेलिया गए थे. ... BOOM Live 13 hr
कश्मीर के क्रिकेट बल्ले वैश्विक हो गए हैं, इंग्लिश विलो को कड़ी टक्कर दे रहे हैं CC BY-ND  — कॉलेज में फ़वज़ुल कबीर को उनके दोस्त अक्सर बाउंसर फेंकते थे और उन्हें हमेशा नीचे झुकना पड़ता था। वे पूछते थे कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर खिलाडियों ने कभी दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में उनके गृहनगर संगम की उनके पिता की फैक्ट्री से बेहतरीन कश्मीरी विलो से हाथ से बने बल्ले का इस्तेमाल क्यों नहीं किया?… Continue reading कश्मीर के क्रिकेट बल्ले वैश्विक हो गए हैं, इंग्लिश विलो को कड़ी टक्कर दे रहे हैं The post कश्मीर के क्रिकेट बल्ले वैश्विक हो गए हैं, इंग्लिश विलो को कड़ी टक्कर दे रहे हैं appeared first on Village Square. ... Village Square 15 hr
महिला जननांग विकृति (FGM) को समाप्त करने के प्रयास, 'वैकेशन कटिंग' के कारण कमज़ोर Attribution+  — कुछ लड़कियों द्वारा अपने देशों से बाहर जाकर, गुप्त तौर पर जननांग विकृति (FGM) करवाने की वजह से, इस कुप्रथा से निपटने की वैश्विक लड़ाई कमज़ोर पड़ रही है. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 15 hr
बुर्किना फासो के पूर्व मंत्री पर कोड़े बरसाने के गलत दावे से वीडियो वायरल CC BY-ND  — बूम ने बुर्किना फासो की फैक्ट चेक संस्था फासो चेक से बात की जिन्होंने इस वीडियो में किए जा रहे दावे को गलत बताया. ... BOOM Live 15 hr
शरणार्थियों की ताक़त व साहस का सम्मान करें: यूएन प्रमुख का आग्रह Attribution+  — दुनिया भर के अनेक हिस्सों में, “टकरावों, जलवायु अराजकता व उथल-पुथल” के कारण, 12 करोड़ से भी अधिक लोग अपने घर छोड़ने के लिए मजबूर हुए हैं. इनमें वो 4.35 करोड़ शरणार्थी भी शामिल हैं, जिन्हें अपने मूल स्थानों से भागकर, अपने देशों की सीमाओं के बाहर शरण लेनी पड़ी है. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 16 hr
बांग्लादेश में ईद पर कुर्बानी का वीडियो पश्चिम बंगाल के दावे से वायरल CC BY-ND  — बूम ने अपने फैक्ट चेक में पाया कि वीडियो पुराना है. इसे बांग्लादेश के मीरपुर स्थित एक आवासीय परिसर में रिकॉर्ड किया गया था. ... BOOM Live 17 hr
अरुणाचल प्रदेशः पैतृक भूमि को बचाए रखने के लिए इदु मिश्मी का सामुदायिक संरक्षण CC BY-ND  — पुराने समय में बुजुर्ग कैसे पहाड़ों में बसे एलोपा और एटुगु गांवों से हर दिन लंबी यात्राएं करते थे, जंगलों को पार करते थे और जंगली जानवरों के झुंडों का सामना करते हुए अपने खेतों तक पहुंचते थे- इहो मितापो कुछ इसी तरह की कहानियां सुनकर बड़े हुए हैं। 30 साल के मितापो फिलहाल अरुणाचल […] The post अरुणाचल प्रदेशः पैतृक भूमि को बचाए रखने के लिए इदु मिश्मी का सामुदायिक संरक्षण appeared first on Mongabay हिन्दी. ... Mongabay 17 hr
स्वतंत्रता सेनानी भवानी महतो का मतदान CC BY-NC-ND  — साहस और विनम्रता से भरी भवानी महतो, भारत की आज़ादी के लिए हुए ऐतिहासिक संघर्ष में दशकों तक क्रांतिकारियों का पेट भरती रहीं, साथ ही खेती-किसानी करके अपने परिवार को भी पोसती रहीं. अब वह 106 साल की हो चुकी हैं, लेकिन उनकी लड़ाई जारी है…लोकसभा चुनाव 2024 में उन्होंने मतदान कर दिया है ... पीपल्स आर्काइव ऑफ़ रूरल इंडिया 17 hr
भारत: स्वस्थ बच्चे, सेहतमन्द समुदाय Attribution+  — भारत के पूर्वोत्तर राज्य मेघालय के दूरदराज़ के इलाक़ों में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO), भारतीय चिकित्सा अधिकारियों के साथ मिलकर, वैक्सीन के प्रति झिझक मिटाने व सभी बच्चों को समय पर नियमित टीके लगवाने के लिए प्रयासों में जुटा है. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 1 d
ग़ाज़ा: ‘विध्वंस व विस्थापन’ के इसराइली तौर-तरीक़े, स्वतंत्र आयोग ने जाँच में किए उजागर Attribution+  — स्वतंत्र मानवाधिकार जाँचकर्ताओं की उच्चस्तरीय टीम ने ग़ाज़ा में इसराइली सेना के आचरण की वैधता पर गम्भीर प्रश्न खड़े करते हुए उन दावों का विरोध किया है, जिनके अनुसार फ़लस्तीनी चरमपंथियों द्वारा बन्धक बनाए गए लोगों की व्यथा को उजागर करने के लिए पर्याप्त कोशिशें नहीं की गई हैं.    ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 1 d
यौन हिंसा के पीड़ितों के लिए समुचित स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं पर बल Attribution+  — संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि युद्ध व हिंसक टकराव के दौरान स्वास्थ्य देखभाल केन्द्रों की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जाना, अन्तरराष्ट्रीय मानवतावादी क़ानून का एक बुनियादी नियम है. उनके अनुसार, यौन हिंसा से गुज़रने वाली महिलाओं व लड़कियों को ज़रूरी स्वास्थ्य सेवाएँ व समर्थन प्रदान करने के लिए यह आवश्यक है. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 1 d
ग़ाज़ा: इसराइली हमलों के दौरान, युद्ध के नियमों का हुआ 'निरन्तर उल्लंघन' Attribution+  — यूएन मानवाधिकार उच्चायुक्त वोल्कर टर्क ने कहा है कि ग़ाज़ा पट्टी में इसराइली सैन्य बलों द्वारा बमबारी किए जाने के मामलों में संयुक्त राष्ट्र की जाँच दर्शाती है कि युद्ध के नियमों का निरन्तर हनन हुआ है. इस दौरान शक्तिशाली बमों का इस्तेमाल किया गया और लड़ाकों व आम नागरिकों के बीच भेद ना किए जाने के भी आरोप सामने आए हैं. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 1 d
चुनाव में कन्हैया, माधवी लता और टेनी के समान अंतर से हारने का दावा गलत है, देखें VIDEO CC BY-ND  — दावा: सोशल मीडिया पर एक न्यूजपेपर की कटिंग वायरल है. इसमें लोकसभा चुनाव 2024 में चार प्रत्याशियों- नवनीत राणा, अजय मिश्रा टेनी, माधवी लता और कन्हैया कुमार को समान वोटों (19731) के अंतर से हारा हुआ बताया गया है. यूजर्स इसे ईवीएम में गड़बड़ी बताकर शेयर कर रहे हैं.फैक्ट: बूम ने अपनी जांच में पाया कि दावा गलत है. बूम ने इलेक्शन कमीशन की वेबसाइट पर पाया कि चारों प्रत्याशियों का वोट मार्जिन अलग-अलग है. 5 जून 2024 को प्रकाशित राजस्थान पत्रिका अखबार के इंदौर संस्करण की खबर में तथ्यात्मक त्रुटि थी.कैसे पता की सच्चाई: बूम ने इलेक्शन कमीशन की वेबसाइट पर अलग-अलग प्रत्याशियों की हार-जीत के आंकड़े देखे. हमने पाया कि वायरल पेपर कटिंग में स्मृति इरानी, मेनका गांधी और नवनीत राणा के आंकड़ों को सही दिखाया गया था, जबकि अजय टेनी, माधवी लता और कन्हैया कुमार के आंकड़ों में गलती थी.  इसके बाद हमने वायरल पेपर कटिंग की मूल कॉपी की खोज की तो पाया कि वायरल कटिंग राजस्थान पत्रिका के इंदौर संस्करण की है. हमें अखबार के ई-पेपर की कॉपी में 5 जून 2024 को प्रकाशित यह खबर मिली. हमने पाया कि राजस्थान पत्रिका के इंदौर संस्करण की खबर में यह तथ्यात्मक त्रुटि हुई थी. हालांकि बाकी सभी संस्करण में सही आंकड़े पेश किए गए हैं.पूरी रिपोर्ट यहां पढ़ें. ... BOOM Live 1 d
सफेद टोपी लगाए पीएम मोदी और अमित शाह की यह तस्वीर फर्जी है CC BY-ND  — बूम ने अपने फैक्ट चेक में पाया कि वायरल तस्वीर एडिटेड है. मूल तस्वीर में नरेंद्र मोदी और अमित शाह टोपी नहीं लगाए थे. ... BOOM Live 1 d
20 निर्वाचन क्षेत्रों में BJP की हार जहां मोदी ने भाषणों में मुसलमानों को खुलेआम निशाना बनाया था CC BY  — पिछले दो महीनों में खत्म हुए सात चरण के आम चुनावों में भाजपा ने एक ऐसा अभियान चलाया जिसमें मुस्लिम विरोधी नैरेटिव और ग़लत सूचनाओं का अभूतपूर्व इस्तेमाल किया गया.... The post 20 निर्वाचन क्षेत्रों में BJP की हार जहां मोदी ने भाषणों में मुसलमानों को खुलेआम निशाना बनाया था appeared first on Alt News. ... Alt News 1 d
वायु प्रदूषण के कारण बढ़ता स्वास्थ्य जोखिम: यूनीसेफ़ समर्थित रिपोर्ट Attribution+  — संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) के साथ साझेदारी में  वैश्विक वायु की स्थिति (SoGA) की नवीनतम रिपोर्ट में बुधवार को चेतावनी दी गई है कि वायु प्रदूषण से मानव स्वास्थ्य पर लगातार असर पड़ रहा है, और अब यह वैश्विक स्तर पर असामयिक मौतों की दूसरी सबसे बड़ी वजह बन गया है.   ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 1 d
जलवायु परिवर्तन के कारण मेघालय में चरम बारिश की घटनाएं चार गुना बढ़ी- अध्ययन CC BY-ND  — 1979 के बाद से, चार दशकों में मेघालय राज्य सहित बांग्लादेश और भारत क्षेत्र के पूर्वोत्तर हिस्सों में एक दिन में होने वाली चरम बारिश की घटनाएं चार गुना बढ़ गई हैं और इसकी बड़ी वजह जलवायु परिवर्तन है। भारत, बांग्लादेश और अमेरिका के शोधकर्ताओं के एक नए अध्ययन से यह जानकारी सामने आई है। […] The post जलवायु परिवर्तन के कारण मेघालय में चरम बारिश की घटनाएं चार गुना बढ़ी- अध्ययन appeared first on Mongabay हिन्दी. ... Mongabay 1 d
वन योद्धा: जंगलों को बचाने के लिए ओडिशा की महिलाओं ने जंगल में झोपड़ियाँ बनाई CC BY-ND  — पहले उन्होंने स्थानीय जंगलों की रक्षा के लिए अपनी ताकत का इस्तेमाल किया और टिम्बर तस्करों को लाठी से खदेड़ना शुरू किया। अब वे अपने हितों की रक्षा के साथ-साथ जंगलों को बचाने के लिए और भी अधिक प्रभावी ढंग से अपनी बुद्धि का इस्तेमाल कर रही हैं। साल और सियाली के पेड़ों से भरी… Continue reading वन योद्धा: जंगलों को बचाने के लिए ओडिशा की महिलाओं ने जंगल में झोपड़ियाँ बनाई The post वन योद्धा: जंगलों को बचाने के लिए ओडिशा की महिलाओं ने जंगल में झोपड़ियाँ बनाई appeared first on Village Square. ... Village Square 1 d
‘अग्निपथ योजना’ को ‘सैनिक सम्मान योजना’ में बदले जाने के दावे से वायरल पत्र फर्जी है CC BY-ND  — बूम ने अपने अपने फैक्ट चेक में पाया कि 'अग्निपथ योजना' को बदल कर 'सैनिक सम्मान योजना' किए जाने का दावा झूठा है. सरकार ने इस तरह का कोई नोटिफिकेशन जारी नहीं किया है. ... BOOM Live 1 d
मुरादाबाद में मद्धम पड़ती पीतल की ठक-ठक CC BY-NC-ND  — उत्तर प्रदेश के इस औद्योगिक शहर में पीतल की ढलाई करने वाले लोग ख़तरनाक परिस्थितियों में रोज़ाना लगभग 12 घंटे भट्टियों में काम करते हुए बिताते हैं. इस शिल्प को 2014 में जीआई (भौगोलिक संकेतक) टैग दिया गया था, लेकिन 'पीतलनगरी’ के शिल्पकारों का कहना है कि इससे उनकी परिस्थितियों में कोई सुधार नहीं हुआ ... पीपल्स आर्काइव ऑफ़ रूरल इंडिया 2 d
म्याँमार: बर्बर अत्याचारों, सैन्य नेतृत्व के 'दमनकारी शासन' से जूझते आम लोग Attribution+  — संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त वोल्कर टर्क ने जिनीवा स्थित मानवाधिकार परिषद को सम्बोधित करते हुए कहा है कि म्याँमार में एक 'अवैध सैन्य शासन तंत्र' के तले देश का दम घुट रहा है और आम लोग गहरी पीड़ा से गुज़र रहे हैं. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 2 d
सूडान: बदतरीन संकट के बीच, आम नागरिकों के लिए 'कोई जगह सुरक्षित नहीं' Attribution+  — संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मंगलवार को सूडान संकट पर चर्चा हुई, जहाँ परस्पर विरोधी सैन्य बलों के बीच हिंसक टकराव में आम नागरिक पीड़ा भुगत रहे हैं. यूएन के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि आम नागरिक भीषण लड़ाई की चपेट में हैं, खाद्य असुरक्षा से पीड़ित हैं और उनके लिए कोई भी जगह सुरक्षित नहीं है. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 2 d
अफ़ग़ानिस्तान: महिलाओं का व्यवस्थागत ढंग से दमन, मानवता के विरुद्ध अपराध के समान Attribution+  — अफ़ग़ानिस्तान के लिए संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ ने आगाह किया है कि अफ़ग़ान महिलाओं व लड़कियों का जिस तरह से गम्भीर व व्यापक पैमाने पर दमन किया जा रहा है कि यह उनके अधिकारों पर एक विशाल, व्यवस्थागत ढंग से किए जा रहे हमले जैसा प्रतीत होता है. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 2 d
भारत: तमिलनाडु में कृत्रिम प्रवाल भित्तियों के ज़रिये समुद्री जैव-विविधता की पुनर्बहाली Attribution+  — भारत में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) कार्यालय, तटीय प्रदेश तमिलनाडु में कृत्रिम प्रवाल भित्तियों (coral reefs) के ज़रिये, जैव-विविधता संरक्षण के प्रयासों में जुटा है. इससे न केवल समुद्री पर्यावरण को स्वस्थ बनाने में मदद मिली है, बल्कि मछुआरों की आमदनी भी बढ़ी है और वो सतत ढंग से मत्स्य पालन करना भी सीख रहे हैं. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 2 d
पेश है डायलॉग अर्थ CC BY-NC-ND  — डायलॉग अर्थ हमारा नया घर ज़रूर है लेकिन हमारा मिशन अभी भी वही है: स्थानीय आवाज़ों को प्राथमिकता और जलवायु और पर्यावरण पर बेहतर चर्चा को प्रोत्साहन देना The post पेश है डायलॉग अर्थ appeared first on Dialogue Earth. ... The Third Pole 2 d
ग़ाज़ा युद्ध: आम नागरिकों की 'अक्षम्य' मौतों, पीड़ा पर गहरा क्षोभ Attribution+  — संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त (OHCHR) वोल्कर टर्क ने ग़ाज़ा में लम्बे समय से जारी युद्ध के कारण हुई तबाही के बावजूद इसराइली हमले जारी रहने की कठोर निन्दा की है. साथ ही, उन्होंने ग़ाज़ा में रखे गए सभी बन्धकों की तुरन्त रिहाई की मांग दोहराई है. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 2 d
उत्तरी गोवा के गांवों में बढ़ती पानी की किल्लत, नए हवाई अड्डे को जिम्मेदार ठहराते लोग CC BY-ND  — पिछले कई दिनों से, हर सुबह उदय महाले एक उम्मीद के साथ अपने बाथरूम का नल खोलते हैं कि शायद आज उसमें पानी आ जाए। लेकिन ऐसा होता नहीं है। पेशे से किसान और टैक्सी चालक उदय उत्तरी गोवा जिले के सबसे उत्तरी पेरनेम तालुका (उप-विभाग) में स्थित मोपा गांव में पले-बढ़े हैं। वह कहते […] The post उत्तरी गोवा के गांवों में बढ़ती पानी की किल्लत, नए हवाई अड्डे को जिम्मेदार ठहराते लोग appeared first on Mongabay हिन्दी. ... Mongabay 2 d
जी-7 सम्मेलन में पीएम मोदी ने जो बाइडन से हाथ मिलाने से इनकार नहीं किया CC BY-ND  — बूम ने अपने फैक्ट चेक में पाया कि पीएम मोदी के साथ चल रहे व्यक्ति जो बाइडन नहीं हैं. वह व्यक्ति सम्मेलन में शामिल हो रहे सभी गेस्ट को उनके गाड़ी से उतरने के बाद मुख्य स्थल तक पहुंचा रहे थे. ... BOOM Live 2 d
क्या आग की मदद से जंगलों की आग को रोका जा सकता है? CC BY-NC-ND  — पारंपरिक तौर-तरीकों को दोबारा ज़िंदा करके हिमालय में चरागाह पारिस्थितिकी तंत्र को विनाशकारी जलवायु परिवर्तन से प्रेरित जंगल की आग से बचाया जा सकता है। The post क्या आग की मदद से जंगलों की आग को रोका जा सकता है? appeared first on Dialogue Earth. ... The Third Pole 2 d
राहुल गांधी ने हिंदू धार्मिक ग्रंथों को न मानने की बात नहीं बोली, पढ़ें फैक्ट चेक CC BY-ND  — बूम ने पाया कि वीडियो में राहुल गांधी अंग्रेजी में भाजपा पर निशाना साधते हुए कह रहे हैं कि "मैंने बहुत सी हिंदू धर्म की किताबें पढ़ी हैं पर बीजेपी जो करती है, उसका हिंदू धर्म से कोई लेना-देना नहीं है." ... BOOM Live 2 d
अमृतसर में बीजेपी की बढ़त दिखाने वाला वायरल इंडिया टुडे एग्जिट पोल ग्राफ़िक एडिटेड निकला CC BY  — आखिरी चरण के मतदान से पहले सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर इंडिया टुडे के हवाले से एक एग्जिट पोल ग्राफ़िक वायरल हुआ जिसमें अमृतसर में बीजेपी को बढ़त मिलती दिख रही... The post अमृतसर में बीजेपी की बढ़त दिखाने वाला वायरल इंडिया टुडे एग्जिट पोल ग्राफ़िक एडिटेड निकला appeared first on Alt News. ... Alt News 2 d
The mobile gatekeeper CC BY-NC-ND  — Meet Kanhaiyalal Gupta of Chhattisgarh, who opens and shuts 16 railway gates over a 68-kilometre journey ... पीपल्स आर्काइव ऑफ़ रूरल इंडिया 2 d
युद्ध के समय सहअस्तित्व की कहानियाँ CC BY  — मार्नेउली जैसी जगहें शांति को एक मौका देती हैं या न्यूनतम यह दर्शाती हैं कि संघर्ष क्षेत्र के बाहर शांति की कहानी संभव है ... Global Voices 3 d
रहनुमाओं व समंदर की मंझधार में फंसे नोचिकुप्पम के मछेरे CC BY-NC-ND  — चेन्नई के नोचिपुक्कम के मछुआरे समुद्र तट - जहां वे लंबे समय से मछलियां बेचते रहे हैं - से थोड़ी दूर एक घरेलू बाज़ार में जबरन भेजे जा रहे हैं. लेकिन मछुआरा समुदाय इन कोशिशों का विरोध कर रहा है, क्योंकि यह उनके रोज़गार की सुरक्षा और पहचान से जुड़ा मसला है ... पीपल्स आर्काइव ऑफ़ रूरल इंडिया 3 d
मीठे पानी के जलाशयों के बाद समुद्री जल में डेरा डालती तिलापिया मछली CC BY-ND  — तिलापिया मछली पाक खाड़ी के तटीय जल में अपने लिए नई जगह बना रही हैं। वो न सिर्फ इस नए क्षेत्र में बस रही हैं बल्कि प्रजनन भी कर रही हैं। इसका अंदाजा यहां मिली विभिन्न आकारों की मछलियां से लगाया जा सकता है जिनमें युवा और बड़ी मछलियां शामिल हैं। इन मछलियों की आबादी […] The post मीठे पानी के जलाशयों के बाद समुद्री जल में डेरा डालती तिलापिया मछली appeared first on Mongabay हिन्दी. ... Mongabay 3 d
पीएम मोदी ने इंस्टाग्राम पर ‘ऑल आइज़ ऑन पीओके’ मैसेज पोस्ट नहीं किया CC BY  — कथित तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पोस्ट की गई एक इंस्टाग्राम स्टोरी सोशल मीडिया पर वायरल है. स्क्रीनशॉट में टेंट्स की कतारें दिखती हैं और बैकग्राउंड में बर्फ से... The post पीएम मोदी ने इंस्टाग्राम पर ‘ऑल आइज़ ऑन पीओके’ मैसेज पोस्ट नहीं किया appeared first on Alt News. ... Alt News 3 d
[वीडियो] क्या अरुणाचल के बढ़ते बिजली संकट को हल कर पाएंगी पारंपरिक पनचक्कियां CC BY-ND  — रूपा बौद्ध मठ में काफी चहल पहल है। उत्तर पूर्वी राज्य अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम कामेंग जिले के रूपा उप-मंडल में रहने वाली एक प्रमुख जनजाति शेरटुकपेन अपने सबसे लोकप्रिय त्यौहार खिक-सबा की तैयारियों में जोर-शोर से जुटे हैं। स्थानीय पहाड़ी देवताओं के सम्मान में हर साल नवंबर के आखिर में मनाया जाने वाले इस […] The post [वीडियो] क्या अरुणाचल के बढ़ते बिजली संकट को हल कर पाएंगी पारंपरिक पनचक्कियां appeared first on Mongabay हिन्दी. ... Mongabay 3 d
पृथ्वी को तहस-नहस करना बन्द कीजिए, यूएन प्रमुख का आहवान Attribution+  — पृथ्वी पर क़रीब 40 फ़ीसदी भूमि, क्षरण का शिकार है और हर एक क्षण बीतने के साथ कई एकड़ ज़मीन को क्षति पहुँच रही है. इसके मद्देनज़र, यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने देशों की सरकारों, व्यवसायों और समुदायों से भूमि क्षरण की रोकथाम और पृथ्वी की रक्षा करने के लिए पुरज़ोर कार्रवाई की पुकार लगाई है. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 3 d
साक्षात्कार: मरूस्थलीकरण व भूमि क्षरण से निपटने में सतत ऊर्जा ‘उम्मीद की किरण’ Attribution+  — मरुस्थलीकरण से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र के कन्वेंशन के कार्यकारी सचिव इब्राहिम चियाउ के मुताबिक़, सौर व वायु जैसे ऊर्जा के सतत स्रोत, मरुस्थलीकरण व भूमि क्षरण को उलटने में दुनियाभर के समुदायों की मदद कर सकते हैं. 17 जून को मरुस्थीलकरण व सूखे के अन्तरराष्ट्रीय दिवस से ठीक पहले इब्राहिम चियाउ ने यूएन न्यूज़ से बातचीत की. ... संयुक्त राष्ट्र समाचार 4 d
राहुल गांधी को जूते मारने की बात कहते उद्धव ठाकरे का पुराना वीडियो वायरल CC BY-ND  — बूम ने पाया कि वीडियो 2019 का है, तब उद्धव ठाकरे और राहुल गांधी सहयोगी दल के नेताओं के रूप में नहीं थे. ... BOOM Live 4 d
लंदन के होटल में खाने में इंसानी मल परोसने का सांप्रदायिक दावा फिर से वायरल CC BY-ND  — बूम ने पाया कि 2014 की घटना को फर्जी तरीके से सांप्रदायिक रंग देकर शेयर किया जा रहा है. ... BOOM Live 4 d
मुस्लिमों द्वारा खाने में नपुंसकता की दवाई मिलाने वाला सांप्रदायिक दावा फिर से वायरल CC BY-ND  — बूम ने अपने फैक्ट चेक में पाया कि वायरल दावा गलत है. इस कोलाज की सभी तस्वीरें असंबंधित और पुरानी हैं. ... BOOM Live 4 d
‘पहाड़, जंगल और झरने हमारे देवता हैं’ CC BY-NC-ND  — हालांकि ओडिशा के नियामगिरि की पहाड़ियों के आदिवासियों ने 2013 में उत्खनन के ख़िलाफ़ अपनी लड़ाई जीत ली थी, लेकिन उनकी पैतृक ज़मीन पर ख़तरा अभी भी बना हुआ है. आंदोलनकारी और कवि राजकिशोर सुनानी ने हाल-फ़िलहाल आयोजित हुए नियामगिरि उत्सव में इस संकट के बारे में गाकर लोगों को जागरूक करने का प्रयास किया ... पीपल्स आर्काइव ऑफ़ रूरल इंडिया 4 d
मेईतेई समुदाय का ख़ास: पुंग वाद्ययंत्र CC BY-NC-ND  — यह पारंपरिक ढोल मणिपुर के मेईतेई समुदाय की संस्कृति, और संगीत तथा नृत्य की दुनिया का ज़रूरी हिस्सा रहा है ... पीपल्स आर्काइव ऑफ़ रूरल इंडिया 4 d
ढोल, मशकबीन और छोलिया डांस CC BY-NC-ND  — उत्तराखंड की छोलिया नृत्य मंडलियों ने स्कॉटलैंड के बाजे बैगपाइप को ग्रामीण भारतीय संगीत का अभिन्न हिस्सा बना लिया है ... पीपल्स आर्काइव ऑफ़ रूरल इंडिया 4 d
अचार और पापड़ से आगे ढोल और सपने CC BY-NC-ND  — गांव वालों के दंश, पति की गाली, और सदियों पुरानी जातीय अवधारणा से लड़ती, बिहार के ढ़िबरा गांव की दस दलित महिलाओं ने एक बैंड बनाया है – और अब उनकी ताल पर बहुत से लोग नाचने और झूमने लगे हैं ... पीपल्स आर्काइव ऑफ़ रूरल इंडिया 4 d
पहाड़ों में प्रवासी संगीतकारों से एक मुलाक़ात CC BY-NC-ND  — राजस्थान के खेतिहर मज़दूर हर साल अप्रैल-मई के महीनों में हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में सदियों पुराना लोकप्रिय लोक वाद्ययंत्र रावणहत्था बजाने जाते हैं और इसके ज़रिए आजीविका कमाते हैं ... पीपल्स आर्काइव ऑफ़ रूरल इंडिया 4 d